संदेश

October, 2008 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

पानी में चंदा और चंदा पर आदमी .....

आज फिर .....

बाढ़ और अकाल

नन्ही पुजारन

इक शमा और जला लूँ

अदम गोंडवी की ये ग़ज़ल